slider

  • 500

    रजिस्टर्ड स्वेच्छाकर्मी

पिछले 24 घंटों में रजिस्टर्ड स्वेच्छाकर्मी: 50

भारतभर में पीएमएसएमए

राष्ट्र का परिदृश्य

           
घटक वास्तविक (संख्या)
पंजीकृत स्वेच्छाकर्मी 5,049
पीएमएसएमए सेवाएं प्रदान करने वाली सुविधाओं की संख्या 13,080

शीर्ष पांच राज्य (अगस्त 2018 तक पंजीकृत स्वेच्छाकर्मी)

महाराष्ट्र 699
मध्य प्रदेश 677
राजस्थान 634
उत्तर प्रदेश 564
कर्नाटक 359

शीर्ष पांच राज्य (पीडब्लू ने (तृतीय या तीसरे तिमाही) अगस्त 2018 तक पीएमएसएम के तहत प्रसवोत्तर देखभाल प्राप्त की)

बिहार 54,760
मध्य प्रदेश 54,069
महाराष्ट्र 28,528
राजस्थान 25,728
उत्तर प्रदेश 24,468

मन की बात

PM Modi
जुलाई 2016

हमसे जुड़ें

ऑनलाइन रजिस्टर करें।

रजिस्टर करें।

एसएमएस पीएमएसएमए स्पेस अपना नाम लिखें।

5616115

टोल फ्री नंबर.

1800-180-1104

मोबाइल एप्लिकेशन

डाउनलोड

पीएमएसएमए में आपका स्वागत है।

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान भारत सरकार की एक नई पहल है, जिसके तहत प्रत्येक माह की निश्चित 9 तारीख को सभी गर्भवती महिलाओं को व्यापक और गुणवत्तायुक्त प्रसव पूर्व देखभाल प्रदान करना सुनिश्चित किया गया है।

इस अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं को सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर उनकी गर्भावस्था के दूसरी और तीसरी तिमाही की अवधि (गर्भावस्था के 4 महीने के बाद) के दौरान प्रसव पूर्व देखभाल सेवाओं का न्यूनतम पैकेज प्रदान किया जाएगा।

इस कार्यक्रम की प्रमुख विशेषता यह हैं कि प्रसव पूर्व जांच सेवाएं ओबीजीवाई विशेषज्ञों/चिकित्सा अधिकारियों द्वारा उपलब्ध करायी जाएगी।

पीएमएसएमए की मुख्य विशेषताएं।

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान (पीएमएसएमए) देश में तीन करोड़ से अधिक गर्भवती महिलाओं को प्रसव पूर्व देखभाल की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए शुरू किया गया है।

इस अभियान के तहत लाभार्थियों को हर महीने की नवीं तारीख़ को प्रसव पूर्व देखभाल सेवाओं (जांच और दवाओं सहित) का न्यूनतम पैकेज प्रदान किया जाएगा। यदि किसी माह में नवीं तारीख को रविवार या राजकीय अवकाश होने की स्थिति में अगले कार्यदिवस पर यह दिवस आयोजित किया जाएगा।

  • गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व नि:शुल्क जांच!
  • सरकार स्वास्थ्य सुविधाओं अधिनियम
  • हर महीने के 9 th पर
उच्च जोखिम के संकेतक
स्टीकर का रंग स्थिति
हरा स्टीकर सामान्य गर्भावस्था वाली महिला होने पर।
लाल स्टीकर उच्च ज़ोखिम वाली महिला होने पर।
welcome

पीएमएसएमए के उद्देश्य

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान प्रजनन मातृ नवजात शिशु एवं किशोर स्वास्थ्य (आरएमएनसीएच + A) रणनीति के तहत निदान तथा परामर्श सेवाओं सहित गुणवत्तायुक्त प्रसव पूर्व देखभाल की कवरेज़ (एएनसी) के लिये परिकल्पना की गयी है।

कार्यक्रम के निम्नलिखित उद्देश्य हैं:

  • चिकित्सकों/विशेषज्ञों द्वारा दूसरी या तीसरी तिमाही की सभी गर्भवती महिलाओं को कम से कम एक प्रसव पूर्व जांच सुनिश्चित करना हैं।
  • प्रसव पूर्व जाँच के दौरान देखभाल की गुणवत्ता सुधारना। जिसमें निम्नलिखित सेवाएं शामिल हैं:
    • सभी उपयुक्त नैदानिक ​​सेवाएं।
    • उपयुक्त नैदानिक स्थितियों के लिए स्क्रीनिंग।
    • कोई भी नैदानिक स्थितियां जैसे कि रक्ताल्पता, गर्भावस्था प्रेरित उच्च रक्तचाप, गर्भावधि मधुमेह आदि का उचित प्रबंधन।
    • उचित परामर्श सेवाएं और सेवाओं का उचित प्रलेखन रखना।
    • उन गर्भवती महिलाओं को जो किसी भी कारण से अपनी प्रसव पूर्व जाँच नहीं करा पाई, उन्हें अतिरिक्त अवसर प्रदान करना।
    • प्रसूति/चिकित्सा के इतिहास और मौजूदा नैदानिक स्थिति के आधार पर उच्च जोखिम गर्भधारण की पहचान और लाइन-सूची।
    • हर गर्भवती महिला को विशेषत रूप से जिनकी पहचान किसी भी ज़ोखिम कारक या सहरुग्णता स्थिति में की गयी हैं, उनके लिए उचित जन्म योजना और जटिलता की तैयारी करना।
    • कुपोषण से पीड़ित महिलाओं में रोग का जल्दी पता लगाने, पर्याप्त और उचित प्रबंधन पर विशेष ज़ोर देना।

प्रशंसापत्र

Dr.-H-pai
डॉ ऋषिकेश पई
महासचिव एफओजीएसआई

भारत के माननीय प्रधानमंत्री ने सभी चिकित्सकों से गर्भवती महिलाओं के लिए प्रतिवर्ष 12 दिन मुफ्त सेवाएं देने का आग्रह किया है |एफओजीएसआई इस नेक काम के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है तथा वह अपने सभी सदस्यों से हर महीने की 9 वीं तारीख़ को सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं पर स्वैच्छिक सेवाएं प्रदान करने का आग्रह करता हैं तथा यह दिन प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान को समर्पित किया गया है।

इस पहल में उच्च ज़ोखिम गर्भधारण का पता लगाने की क्षमता है तथा इसके फलस्वरूप यह हमारे सतत विकास के लक्ष्य के लिए मातृ मृत्यु दर में कमी लाने में सहायता करेगा। इसके लिए प्रत्येक एवं हर सदस्य का सहयोग आवश्यक है तथा इसके माध्यम से हमारे देश की सबसे कमजोर आबादी के लिए प्रसव पूर्व देखभाल प्रदान करने में अंतर किया जा सकता हैं। तो हम सभी इसलिए हर महीने की 9 वीं तारीख़ को समर्पित करने की प्रतिज्ञा लेते हैं।

Dr.SS-Agarwal
डॉ एस. एस. अग्रवाल
राष्ट्रीय अध्यक्ष
आईएमए

आईएमए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान को सहयोग करेगा तथा इसके सभी सदस्यों से हर महीने की 9 वीं तारीख को सुबह 9:00 बजे से 11:00 बजे तक नि:शुल्क परामर्श प्रदान करने का अनुरोध किया जाता है। सभी आईएमए के राज्य/स्थानीय शाखा अध्यक्षों एवं सचिवों, पदाधिकारियों, केंद्रीय परिषद के सदस्यों से इस संदेश को सभी सदस्यों एवं मित्रों को पारित एवं पालन सुनिश्चित करने का अनुरोध किया जाता है।

चित्र प्रदर्शनी

PMSMA September 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH

PMSMA August 2018,CHANDIGARH